Toilet-Museum

Toilet Museum Facts: अपने आस पास हम जो कुछ भी देखते हैं उसका एक अतीत होता है। विभिन्न क्षेत्रों की जनजातियों से लेकर उनके खान-पान, रहन-सहन, विश्वास, घर और यहां तक ​​कि शौचालय भी! जी हां, शौचालयों का उपयोग करने के मामले में हमने एक लंबा सफर तय किया है।

आपको विश्वास करना पड़ेगा अगर हम आपसे कहें, वास्तव में नई दिल्ली में शौचालयों को समर्पित एक संग्रहालय (Toilet Museum) है जो विस्मय की भावना पैदा करता है! बिलकुल सही पढ़ा आपने, आप अब तक की सभ्यताओं द्वारा उपयोग किए जाने वाले अद्भुत मूत्रालयों के दौरे के लिए दिल्ली में सुलभ अंतर्राष्ट्रीय शौचालय संग्रहालय (Sulabh International Toilet Museum in Delhi) जा सकते हैं! और यक़ीन मानिए दिल्ली में शौचालयों का संग्रहालय इतना अच्छा है, आपको यहाँ समय बिताने में कोई पछतावा नहीं होगा !

ऐतिहासिक शौचालयों को देखें

प्राचीन, मध्यकालीन और आधुनिक समय के दौरान उपयोग की जाने वाली शौचालय सीटों को प्रदर्शित करने वाला एक संग्रहालय, नई दिल्ली के महावीर एन्क्लेव क्षेत्र में स्थित है। यह  भारत स्थित एनजीओ सुलभ इंटरनेशनल द्वारा संचालित और अनुरक्षित, पूरे देश में स्वच्छता को बढ़ावा देने के लिए संग्रहालय की स्थापना की गई है। यह इतना विशेष है कि स्पष्ट कारणों से, टाइम पत्रिका ने इसे दुनिया के सबसे अजीब संग्रहालयों में से एक के रूप में सूचीबद्ध किया है।

अधिकतर दिल्ली वाले भी नहीं जानते इस इस Toilet Museum के बारे में

अजब बात यह है कि दिल्ली में रहने वाले लोगों को भी इस संग्रहालय के बारे में जानकारी नहीं है। हमारे जो पाठक इस अनोखे संग्रहालय से अनजान हैं उनको हम बता दें कि, इसे 1992 में स्थापित किया गया था।

50 देशों की टाएलेट इसमें प्रदर्शित हैं

इसमें 50 देशों की टाएलेट को तीन समूहों में वर्गीकृत किया गया है: प्राचीन, मध्यकालीन और आधुनिक। इस स्मारक में प्रदर्शित वस्तुओं की समय सीमा 3000 ईसा पूर्व से 20वीं शताब्दी तक है। अगर आप कभी यहाँ जाएँ तो आप पाएंगे कि प्रत्येक प्रदर्शित शौचालय में उस के इतिहास पर रोचक जानकारी होती है। यह जानकारी आपको सचमुच विस्मय में डाल देगी और शौचालय जैसे विषय पर आप इतनी रुचि से ध्यान देंगे की आपको खुद आश्चर्य होगा और साथ साथ मज़ा भी आएगा।

King Louis XIV का कमोड हँसायेगा भी और हैरान भी करेगा

इन लुभावने प्रदर्शित वस्तुओं में से एक है ब्रिटिश मध्ययुगीन कमोड की नकल, जो एक खजाने की तरह दिखता है। हैरानी की बात यह है कि इस कमोड का उपयोग करने के लिए आपको लकड़ी के बक्से के अंदर बंद होना पड़ता है। इन दुर्लभ चीजों में से एक है फ़्रेंच किंग लूई XIV द्वारा उपयोग किए गए शौचालय की कॉपी, जिसका उपयोग वह अदालत के समय करते थे ताकि अगर उन्हें the call of nature का अनुभव हो यानी कि अदालत की कार्यवाही में शौच की शंका हो तो उन्हें कहीं नहीं जाना पड़े।

हाँ जी ये बात हास्यास्पद लग रही है लेकिन उस ज़माने में इस शौचालय को इसलिए बनाया गया था कि समय की बचत हो सके और राजा के कीमती अदालत का समय बर्बाद ना हो।

हैरतंगेज़ कमोड और शौचालय

अमेरिका में 1920 के दशक में इस्तेमाल किया जाने वाला दो मंजिला शौचालय भी शौचालय संग्रहालय का हिस्सा है। इसके अलावा, सोने और चांदी से बना शौचालय देखने लायक है। संभवतः किसी ऐसे व्यक्ति द्वारा उपयोग किया जाता होगा जो सचमुच सोने के कमोड पर बैठना पसंद करता होगा! लोगों के सनकीपन की हद सिर्फ इसी के कमोड पर खत्म नहीं होती। और भी कई विभिन्न प्रकार के शौचालय और कमोड यहाँ पाए जाते हैं, लेकिन उनकी जानकारी के लिए आपको इस संग्रहालय में जाना ही पड़ेगा। इसलिए संग्रहालय का पता नोट करें और वहाँ पहुँचे ज़रूर।

Adress of Toilet Museum in Delhi – संग्रहालय का पता :

सुलभ भवन,

पालम डाबरी रोड, महावीर एन्क्लेव,

नई दिल्ली, दिल्ली 110045

आने का समय: सुबह 10:30 – शाम 5 बजे

फोन: +91-11-25053646

Why Govinda refused to dance for Queen Elizabeth: जब गोविंदा ने क्वीन एलिजाबेथ के लिए डांस करने से किया इनकार

Follow us on Facebook for more such untold Facts about Toilet Museum.

If you like post please consider sharing this in social media